कामकाजी महिलाओं की संख्या बढ़ाकर देश कर सकता है विकास: अमिताभ कांत

नई दिल्ली। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा है कि अगर देश में कामकाजी महिलाओं की संख्या 24 फीसद से बढ़कर 48 फीसद हो जाए तो देश की अर्थव्यवस्था में 700 बिलियन अमेरिकी डालर जुड़ सकता है। एक कार्यक्रम में भाषण देते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए, महिलाओं के स्वास्थ्य और शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए।

मिली जानकारी के मुताबिक, देश में केवल 24 फीसद महिलाएं कामकाजी हैं, जबकि दुनिया भर में यह आंकड़ा 48 फीसद है। कांत ने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए पुरुषों को महिलाओं के रोजगार में सहयोग करना चाहिए। अमिताभ कांत ने कहा कि अगर लैंगिक समानता में ध्यान दिया जाए तो देश 9 फीसद से 10 फीसद की दर से आगे बढ़ सकता है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए नौकरियों के अवसर बहाल करने चाहिए, इसके साथ देश के पूर्वी हिस्से और ग्रामीण इलाकों में उनकी शिक्षा और पोषण पर भी ध्यान देने की जरूरत है। नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि चीन में विश्व स्तरीय आधारभूत संरचना का निर्माण भारत के लिए एक चुनौती है। उन्होंने कहा कि सरकार को सड़कों और हवाई अड्डों पर ग्रीनफील्ड इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाएं शुरू की जानी चाहिए और इसका संचालन और रखरखाव निजी क्षेत्र के हाथों में देना चाहिए।