75 लाख नए करदाताओं ने दाखिल किया आइटीआर

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष में आयकर विभाग से अब तक लगभग 75 लाख नए करदाताओं ने आयकर रिटर्न (आइटीआर) दाखिल किया है। आयकर विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कर चोरी रोकने के कई हालिया उपायों के चलते आइटीआर दाखिल करने वालों की संख्या में यह बढ़ोतरी हुई है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आयकर विभाग को चालू वित्त वर्ष के अंत तक तंत्र से 1.25 करोड़ नए करदाता जोड़ने का लक्ष्य दिया हुआ है। अधिकारी ने कहा कि विभाग को यह लक्ष्य तय अवधि में हासिल कर लेने की पूरी उम्मीद है।

आयकर विभाग के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष (2017-18) में 1.06 करोड़ नए करदाताओं ने आइटीआर दाखिल किया था। नया करदाता उसे कहा जाता है जो वर्ष की शुरुआत में टैक्स रिटर्न दाखिल करने वालों में शामिल नहीं था, लेकिन उसने वर्ष की समाप्ति से पहले किसी भी वक्त आइटीआर दाखिल किया। अधिकारी ने कहा कि आइटीआर दाखिल करने वालों को नया करदाता नहीं भी कहा जा सकता है। ऐसा भी हो सकता है कि आइटीआर के तहत करदाता द्वारा टैक्स में मांगी गई छूट वाजिब हो और उससे आयकर विभाग को किसी भी तरह की टैक्स की प्राप्ति नहीं हुई हो। लेकिन एक बार आयकर डाटाबेस में आ जाने के बाद विभाग की निगाहों से करदाता की आय छुपी नहीं रह सकती है।

सीबीडीटी ने चालू वित्त वर्ष के लिए 1.25 करोड़ नए करदाताओं को लक्षित करने का निर्देश दिया है। इसमें टैक्स विभाग के पश्चिमोत्तर क्षेत्र में अधिकतम 11,48,489 नए करदाता जोड़ने का लक्ष्य है।